तेज दिमाग-खूबसूरती चाहिए तो जरूर खाएं मछली

तेज दिमाग-खूबसूरती चाहिए तो जरूर खाएं मछली
मछली खाना स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है. मछली में लो फैट होता है. साथ ही इसमें बहुत अधिक मात्रा में प्रोटीन, ओमेगा-3 फैटी एसिड पाए जाने के कारण भी मछली स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होती है. मछली में विभिन्न प्रकार के विटामिन, खनिज और कई अन्य पोषक तत्व मौजूद होते हैं इसलिए मछली का सेवन शरीर की कई जरूरतों को पूरा करता है.
मछली खाना स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होता है. मछली में लो फैट होता है. साथ ही इसमें बहुत अधिक मात्रा में प्रोटीन, ओमेगा-3 फैटी एसिड पाए जाने के कारण भी मछली स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होती है. मछली में विभिन्न प्रकार के विटामिन, खनिज और कई अन्य पोषक तत्व मौजूद होते हैं इसलिए मछली का सेवन शरीर की कई जरूरतों को पूरा करता है. साथ ही इसके खाने से आंखें भी खूबसूरत होती हैं.
 
कैंसर से बचाव 
 
जो लोग नियमित रूप से मछली का सेवन करते हैं उन्हें कैंसर होने का खतरा कम होता है. मछली में ओमेगा-3 फैटी एसिड बहुत ज्यादा मात्रा में पाया जाता है, जो कैंसर से बचाव करता है. इसे खाने से ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर से बचाव होता है. अगर आप नॉनवेज खाने के शौकीन हैं तो अपने आहार में मछली को इस्तेमाल करना आपके लिए बहुत फायदेमंद होगा.
 
दिमाग तेज करने के लिए
 
अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा तेज दिमाग वाला बने तो उसे आज से ही मछली खि‍लाना शुरू कर दीजिए. मछली में मौजूद पोषक तत्व मस्तिष्क को तेज करने का काम करते हैं. मछली में मौजूद फैटी एसिड दिमाग को तेज करता है और स्मरण शक्त‍ि बढ़ाता है. इसके साथ ही इसमें मौजूद प्रोटीन से मस्त‍िष्क की नई कोशिकाओं का निर्माण होता है.
 
दिल की सुरक्षा के लिए
 
दिल के मरीजों के लिए मछली बहुत फायदेमंद है. इसमें पाए जाने वाला ओमेगा-3 फैटी एसिड दिल और उसकी मांस-पेशि‍यों को मजबूत बनाता है. मछली में लो फैट होता है जिससे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कंट्रोल में रहती है.
उच्च रक्चाप को नियंत्रित करने में
 
अगर आपको उच्च रक्तचाप की समस्या है तो आपको अभी दूसरे मांसाहार छोड़कर मछली खाना शुरू कर देनी चाहिए. मछली में लो फैट होता है जिसकी वजह से हाई-ब्लड प्रेशर की समस्या कम हो जाती है.
 
त्वचा और बालों के लिए
 
मछली में मिलने वाले ओमेगा-3 की वजह से इसका सेवन करने वालों की त्वचा और बाल खूबसूरत बने रहते हैं. इससे त्वचा की नमी नहीं जाने पाती है और बाल भी चमकदार बने रहते हैं.
 
डिप्रेशन दूर करने में
 
ओमेगा-3 के सेवन से अवसाद की स्थिति में भी फायदा मिलता है. गर्भावस्था के दौरान महिलाएं अक्सर अवसाद से घिर जाती हैं, ऐसे में डॉक्टर उन्हें ओमेगा-3 की कैप्सूल लेने की सलाह देते हैं लेकिन मछली का सेवन करते रहने से कैप्सूल लेने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी.