ट्रेन भी प्राइवेट सेक्टर को सौंपने की तैयारी, 27 सितम्बर को बैठक

ट्रेन भी प्राइवेट सेक्टर को सौंपने की तैयारी, 27 सितम्बर को बैठक
रेलवे कई महत्वपूर्ण मार्गों पर ट्रेनों का संचालन निजी कंपनियों के हाथों में सौंपने पर विचार कर रही है. इसके लिए 27 सितंबर यानी शुक्रवार को वरिष्ठ अधिकारियों की एक महत्वपूर्ण बैठक है.
 
  • कुछ ट्रेनों को निजी हाथों में देने पर 27 सितंबर को मंथन
  • लखनऊ-नई दिल्ली, मुंबई-अहमदाबाद रूट IRCTC के हवाले होगा
 
भारतीय रेलवे आने वाले दिनों में यात्रियों के लिए बेहतर सेवाओं और सुविधाओं को उपलब्ध कराने के लिए कई महत्वपूर्ण मार्गों पर ट्रेनों का संचालन निजी कंपनियों के हाथों में सौंपने पर विचार कर रही है. इसके लिए 27 सितंबर यानी शुक्रवार को वरिष्ठ अधिकारियों की एक महत्वपूर्ण बैठक है.
 
निजी कंपनियों को प्रमुख मार्गों पर ट्रेनों का संचालन सौंपने के लिए राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर के 100-दिवसीय एजेंडे के तहत फैसला लिया जाएगा. इससे पहले भारतीय रेलवे ने लखनऊ-नई दिल्ली और मुंबई-अहमदाबाद के बीच भारतीय रेल खानपान एवं पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) को अपनी दो लग्जरी तेजस एक्सप्रेस ट्रेनों के संचालन को मंजूरी देने की घोषणा की थी.  
 
रेल मंत्रालय के एक अधिकारी ने न्यूज एजेंसी आईएएनएस को बताया, 'राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर ने ट्रेनों के निजी संचालन से संबंधित परिचालन मुद्दों को तय करने के लिए 27 सितंबर को ट्रैफिक रेलवे बोर्ड के सदस्य की अध्यक्षता में वरिष्ठ रेलवे अधिकारियों की एक बैठक बुलाई है.'  
 
भेजे गए लेटर
 
रेलवे बोर्ड कोचिंग के प्रधान कार्यकारी निदेशक ए. मधुसूदन रेड्डी ने 23 सितंबर को केंद्रीय, उत्तरी, उत्तर मध्य, दक्षिण पूर्वी, दक्षिण मध्य और दक्षिणी रेलवे के सभी प्रधान मुख्य परिचालन प्रबंधकों को एक पत्र लिखा. पत्र में रेड्डी ने कहा, '100-दिवसीय कार्य योजना के तहत मंत्रालय ने प्रस्ताव दिया है कि विश्व स्तरीय सेवाएं प्रदान करने के लिए यात्री ट्रेनों के निजी संचालन की शुरुआत की जाए.'  
 
उन्होंने कहा, 'रेलवे के प्रस्ताव के तहत, निजी शहरों को जोड़ने के लिए निजी ऑपरेटरों को यात्री ट्रेनों के लिए एक बोली प्रक्रिया के माध्यम से शामिल किया जाएगा.'  
रेल मंत्रालय की योजना के अनुसार, लखनऊ-नई दिल्ली और मुंबई-अहमदाबाद को संचालन के लिए आईआरसीटीसी को दिया जा रहा है. इसके अलावा रेलवे इंटर सिटी सेवाओं के लिए 14 मार्गों पर निजी ऑपरेटरों को ट्रेन संचालन सौंपेगा. इसमें 10 मार्गो पर रातभर चलने वाली लंबी दूरी की सेवाएं और चार उपनगरीय सेवाएं शामिल हैं.
 
रेलवे ने दिल्ली-मुंबई, दिल्ली-लखनऊ, दिल्ली-जम्मू/कटरा, दिल्ली-हावड़ा, सिकंदराबाद-हैदराबाद, सिकंदराबाद-दिल्ली, दिल्ली-चेन्नई, मुंबई-चेन्नई, हावड़ा-चेन्नई और हावड़ा-मुंबई मार्गों पर निजी ऑपरेटरों को लंबी दूरी या रात भर की यात्रा ट्रेनों को संचालित करने का प्रस्ताव दिया है.
 
इसके अलावा मुंबई-अहमदाबाद, मुंबई-पुणे, मुंबई-औरंगाबाद, मुंबई-मडगांव, दिल्ली-चंडीगढ़/अमृतसर, दिल्ली-जयपुर/अजमेर, हावड़ा-पुरी, हावड़ा-टाटा मार्गो पर इंटरसिटी एक्सप्रेस के लिए निजी कंपनियों को आमंत्रित करने का प्रस्ताव दिया है.
 
इसके साथ ही हावड़ा-पटना, सिकंदराबाद-विजयवाड़ा, चेन्नई-बेंगलुरु, चेन्नई-कोयम्बटूर, चेन्नई-मदुरै और एर्नाकुलम-त्रिवेंद्रम मार्ग पर भी प्रस्ताव पेश किया गया है. इसी के साथ रेलवे ने मुंबई, कोलकाता, चेन्नई और सिकंदराबाद में उपनगरीय ट्रेन संचालन के लिए भी निजी कंपनियों को प्रस्ताव दिया है.